ब्रह्मांड की सारी ताकतें केजरीवाल के साथ, पर अफसर नहीं!

34

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी और अफसरशाही का टकराव एक बार फिर सामने है। दरअसल इस बार आप सरकार और अफसरशाही के बीच एक ऐड को लेकर टकराव हुआ है जिसे सरकार के 3 साल पूरे होने के मौके पर तैयार किया गया है। टीवी पर दिखाए जाने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संदेश वाले इस ऐड को लेकर अजीबोगरीब हालात बन गए हैं। उनके संदेश को दिल्ली सरकार के विभागों ने ग्रीन सिग्नल नहीं दिया है।
सारा पेच संदेश में मौजूद एक लाइन को लेकर फंसा है। विडियो संदेश में एक लाइन है कि ‘जब आप सचाई और ईमानदारी के रास्ते पर चलते हैं तो ब्रह्मांड की सारी दृश्य और अदृश्य शक्तियां आपकी मदद करती हैं’। इस लाइन को सर्टिफाई करने से इनकार की वजह यह साफ नहीं होना है कि सरकार का कौन-सा विभाग इसे क्लियर करेगा।
अफसरों ने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस का हवाला दिया है। वहीं, AAP सरकार का आरोप है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का हवाला देकर सीएम के इस संदेश को फंसाया गया है। ब्यूरोक्रेसी के रुख से हैरान सीएम ने अफसरों के साथ सोमवार को हुई मीटिंग में कहा कि क्या भगवान इस लाइन को क्लियर करेंगे? इस मसले को लेकर मुख्यमंत्री आवास पर मीटिंग हुई। उसमें भी अफसर इस लाइन को क्लियर करने को तैयार नहीं हुए।
अधिकारियों ने सीएम को बताया कि किसी भी ऐड के हर तथ्य की संबंधित विभाग पुष्टि करेगा। सूत्र बताते हैं कि अधिकारियों के जवाब सुनकर मुख्यमंत्री ने बैठक में अपना सिर पकड़ लिया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने ये नियम फैक्ट्स-फिगर्स चेक करने को बनाए थे, न कि काम अटकाने को। सीएम ने चीफ सेक्रटरी से कहा कि आईएएस अफसर दिमाग से काम करने के बजाय काम अटका रहे हैं। सीएम ने कहा है कि वह अफसरशाही से बहुत दुखी हैं। दिल्ली सरकार का ऐसा कोई काम नहीं जिसमें ये अधिकारी अड़ंगा ना डालते हों।
यह है सीएम का पूरा संदेश
पिछले तीन सालों में दिल्ली में भ्रष्टाचार में भारी कमी आई है। … अब एक-एक पैसा जनता के विकास पर खर्च हो रहा है। …बाधाएं बहुत आईं, पर आपके हक के लिए हम हर कठिनाई से लड़े। ईश्वर ने हर कदम पर साथ दिया। जब आप सचाई और ईमानदारी के रास्ते पर चलते हैं तो ब्रह्मांड की सारी दृश्य और अदृश्य शक्तियां आपकी मदद करती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)