बिना प्रवचन के आत्म कल्याण नहीं हो सकता- महासती साध्वी श्री प्रियसाधना जी

0
173

मुंबईः मेवाड़ उपसंघ नेरुल के प्रांगण में  विराजमान परम पूज्य गुरुणी दिवाकर दीपिका महासती श्री शांता कुमारी जी,म.सा की सुशिष्या साध्वी श्री प्रियसाधना जी ने अपनी प्रवचन वाणी से प्रेरणा देते हुए बताया की के बिना प्रवचन के आत्मा का कल्याण नही हो सकता बिना प्रवचन व बिना महावीर के वाणी से जीवन में परिवर्तन नहीं हो सकता है।महावीर की वाणी बिना भगवतो के बिना प्राप्त नही होगी, आगे कहा जीवन में उतार चड़ाव आते रहते है जो इसमें धेर्य  रख लेता है वो जीवन में आगे बढ़ जाता है। हमारे जीवन में धर्म की ऐसी ही चमक होनी चाहिए अगर तुन्हें दलाली करनी है तो धर्म की करो कोयले की नहीं।दिल तोल कर बोल वचन अनमोल मधुर मुह वाणी जिसमे सुने जिनवाणी।तलवार का घाव तो भर सकता है वचन का घाव कभी नहीं भर सकता। नेरुल श्री संघ के युवक प्रवचन का बढ-चढ कर लाभ ले रहे है। प्रवचन में  महिला मंडल के द्वारा गुरु चालीसा के साथ मंगलपाठ से कार्यक्रम को परिपूर्णता दी गई। नेरुल के श्रावक एवं श्रविको की भारी संख्या में उपस्थिति रही।

इस सभा में भेरूलाल पोखराणा, मंत्री हिम्मत खेरोदिया,  कोषाध्यक्ष गौतम सिसोदिया, चन्दनमल कच्छारा ,देवेन्द्र जगडावत,, फतेहलाल संचेती, देवेद्र ओंस्तावाल ,दिलीप चिपड़, मनो

ज रांका, नेमीचन्द्र चिपड़, कैलाश खरवड, संजय बोल्या,राजेन्द्र खेरोदिया ,राजेन्द्र हिंगड, रमेश हिंगड, बिकास बाफना विनोद रांका, यशवंत पिपाडा, भावेश सोनी, धीरज रांका ,महेश सिंगाल, देवेन्द्र बोहरा,चन्द्रेश सोनी, पुखराज खरवड  , प्रमोद तातेड, मुकेश ओंस्तावाल, प्रवीण आंचलीया की उपस्थिति रही।

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

यह भी देखें :   गुरु आज्ञानुसार आडम्बर रहित तपस्या करें- चतरलाल लोढ़ा
loading...