बंद 241 मामलों की रिपोर्ट परखेगा सुप्रीम कोर्ट

0
29

नई दिल्ली:1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में सुप्रीम कोर्ट सुपरवाइजरी कमेटी की 241 मामलों में दाखिल की गई रिपोर्ट पर विचार करेगा। एसआईटी ने इन मामलों को बंद कर दिया था।
मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने बुधवार को सुपरवाइजरी कमेटी द्वारा दाखिल रिपोर्ट को रिकार्ड पर लिया और रिपोर्ट को चमड़े के बैग में नंबर लाक सिस्टम में रखा गया है। कोर्ट ने मामले पर अगली सुनवाई के लिए 11 दिसंबर की तारीख तय करते हुए उस दिन सभी पक्षों और एएसजी पिंकी आनंद को मौजूद रहने को कहा है ताकि सुनवाई में वे मदद कर सकें।
गत 16 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने एक सुपरवाइजरी कमेटी का गठन किया था जिसे एसआइटी द्वारा बंद किये गए 241 मामलों की जांच सौंपी थी। कोर्ट ने एसआइटी से तीन महीने में रिपोर्ट मांगी थी। सिख दंगों की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे याचिकाकर्ताओं ने आरोप था कि एसआइटी ने 241 मामलों को बंद करने की सिफारिश कर दी है।
इससे पहले गत 24 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को सिख दंगो से जुड़े उन 199 मामलों की फाइलें पेश करने का निर्देश दिया था जिन्हे एसआइटी ने जांच के बाद बंद कर दिया था। याचिकाकर्ता गुरलैंद सिंह कहलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर आरोप लगाया था कि सिख विरोधी दंगों के मामलों की जांच के लिए गृह मंत्रालय द्वारा गठित एसआइटी ने कुल 293 मामलों की जांच की जिसमें से 199 बंद कर दिये। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के सदस्य कहलौं की मांग है कि कोर्ट एसआइटी गठित कर दंगों की मामलों की निश्पक्ष जांच कराए।