ठाणे में आधात्मिक मिलन पर भव्य समारोह

0
226
मुंबई:चातुर्मास की समाप्ति के पश्चात मुम्बई उपनगरों सही संपूर्ण देश भर में जैन संत विचरण कर रहे हैं। उसी कड़ी में शासन श्री पद्मावती श्री जी एवं साध्वी वृन्द शहर में विराजित संतों के दर्शन एवं श्रावक समाज को मार्गदर्शन एवं दर्शन प्राप्त करने हेतु विचरण कर रहे हैं। गुरुवार को ठाणे में स्थित तेरापंथ भवन में विराजित आगम मनीषी प्रोफेसर मुनिश्री महेन्द्रकुमारजी, मुनिश्री अजित कुमार जी, मुनि श्री डॉ अभिजीत कुमार जी, मुनिश्री जागृत कुमार जी, मुनिश्री सिद्ध कुमार जी और शासन श्री साध्वीश्री पदमावती जी, साध्वी श्री डॉ गणवेशा श्री जी साध्वी श्री मेरुप्रभा जी, साध्वीश्री मयंक प्रभा जी के आध्यात्मिक मिलन का शुभ अवसर ठाणे वाशियों को प्राप्त हुआ।
इस अवसर पर आगम मनीषी प्रो. मुनि महेंद्र कुमार ने कहा कि शासन श्री नगीना जी की ही प्रेरणा है कि शासन श्री पद्मावती जी एवं साध्वी वृन्द चातुर्मास राजस्थान पूज्य गुरुदेव द्वारा फरमाए जाने के बावजूद करीब डेढ़ सौ किलोमीटर का सफर तय करके संतों से मिलना और श्रावकों को दर्शन सेवा का अवसर प्रदान करना सराहनीय हैं। सबसे प्रसन्नता की बात हमारे संतों का आचार विचार शुद्ध हैं। शासन श्री पद्मावती जी ने कहा कि आगम मनीषी जी जो श्रम धर्म संघ के लिए कर रहे हैं उसे हम शब्दों में बयान नही कर सकती हूँ। वहीं शासन श्री नगीना श्री जी से जो वात्सल्य और अपनत्व मुझें मिला उसे हम शब्दों में बयां नही कर सकती हूं। आज जो भी हूँ उन्ही की वजह से हूँ। साध्वी श्री गवेषणा जी ने कहा कि शासन श्री नगीना श्री जी हमारी माँ तुल्य थी और आगमन मनीषी प्रो मुनि श्री महेंद्र कुमार जी आप हमारे पिता तुल्य है। आप हमें शक्ति प्रदान करें जिससे हम धर्म संघ की प्रभवनाओं को बढ़ाने के लिए अग्रसर हो सके।
इस कार्यक्रम को सफल बनाने में समस्त तेरापंथ समाज ठाणे, श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा ठाणे, श्री भिक्षु महाप्रज्ञ ट्रस्ट ठाणे आदि शामिल रहे।

इस अवसर पर ठाणे सभा अध्यक्ष निर्मल श्री श्रीमाल, मनसुख श्री श्रीमाल, तेयुप भायंदर अध्यक्ष माणक सालेचा, रमेश सोनी, तेयुप ठाणे अध्यक्ष पंकज नॉलखा, मीनाक्षी श्री श्रीमाल, रमिला बडाला, ललिता सोनी, चंद्रा बाफना, संगीत चंडालिया, वनिता मेहता एवं ठाणे महिला मंडल की महिलाओं की उपस्थिति रही। मुनि श्री अजित कुमार जी ने कायक्रम में मंच का कुशल संचालन किया।