प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’ से आए कॉल तो संभल जाएं

0
33

नई दिल्ली:एजेंसी।अगर आपके पास भी ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’ के नाम पर कोई कॉल आए तो जरा सतर्क हो जाएं। मुमकिन है कि दिल्ली में नई तरह से हो रही ठगी का अगला शिकार आप हों। बीते 15 दिनों में ऐसे कई मामले में दिल्ली पुलिस के पास आ चुके हैं, जिसमें कारोबारियों से लाखों रुपए की धोखाधड़ी कर ली गई। वारदात के लिए आरोपी बेहद शातिराना तरीके से कुछ देर के लिए मोबाइल बंद करा देते हैं। उसके बाद जब मोबाइल ऑन होता है तब तक ऑनलाइन ट्रांजैक्शन हो चुका होता है। इसी तरह करीब 7 लाख से अधिक ठगी का शिकार रोहिणी के एक फैक्ट्री मालिक संदीप बंसल हुए हैं। आरोपियों ने 2 घंटे तक संदीप बंसल और उनकी वाइफ का मोबाइल फोन बंद करा दिया। इस बाबत संदीप बंसल ने आरोपियों की सीसीटीवी फुटेज के अलावा सबूत सौंपे हैं। पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
इस तरह की फंसाने की शुरुआत
संदीप बंसल की बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में ऑटो पार्ट्स की फैक्ट्री है। उन्हें अपने बैंक में ओडी बढ़वानी थी। इसके लिए उन्होंने संपर्क किया। इसके अगले ही दिन से उनके पास मोबाइल पर बैंक के नाम से कॉल आने लगीं। आरोपियों ने प्रधानमंत्री मुद्रा योजाना का हवाला देकर ओडी में अतिरिक्त एक से दो पर्सेंट छूट दिलाने की बात कही। अश्विनी शर्मा नाम के शख्स ने बताया कि 2 साल की आईटी रिटर्न, आधार कार्ड की कॉपी, टेलिफोन बिल, पैन कार्ड और कैंसल चेक देने होंगे।
डॉक्युमेंट्स दिए, फोन हुए बंद 
बंसल ने 2 दिन की मोहलत मांगी और सारे डॉक्युमेंट इकठ्ठा कर लिए। अश्विनी का फिर फोन आया और उसने कहा कि वह अपने एग्जिक्यूटिव को भेज रहा है। विशाल नाम का शख्स पहुंचा। बंसल ने उसे बताया कि फैक्ट्री वाइफ के नाम से है। उसने वाइफ के साइन की बात कही। संदीप उसे घर लेकर पहुंचे। जहां पर सारे दस्तावेज पर साइन करा लिए। टेलिफोन बिल की कॉपी और कैंसल चेक भी लिए। लेकिन उसने चेक भरवाते वक्त अपना पेन दिया। उसके अगले दिन दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक बंसल व उनकी वाइफ का मोबाइल बंद हो गया।
तब तक हो चुकी थी देर 
उन्होंने कस्टमर केयर पर फोन किया तो पता चला कि उनके नाम से कॉल की गई थी। जिसके बाद फोन बंद किए गए। यह भी बताया गया कि इसी तरह एक दिन पहले भी फोन बंद कराया गया था। संदीप बंसल को अहसास हुआ। उन्होंने तुरंत बैंक से पता किया तो मालूम चला कि 7.15 लाख रुपए अकाउंट से अलग-अलग खाते में जा चुके हैं। उन्होंने पुलिस में केस दर्ज कराया है। बैंक से संपर्क किया। वहां से जवाब मिला कि इस नाम का कोई भी उनके यहां कर्मचारी नहीं है।
पहले भी हो चुकी हैं वारदात 
कुछ इसी तरह पिछले हफ्ते मोती नगर में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के नाम पर एक कारोबारी के अकाउंट से बेहद चालाकी से लाखों रुपये उड़ा लिये। इसके लिए कारोबारी का मोबाइल नंबर तक बंद करवा दिया। ताकि कैश के निकलने का मैसेज न मिल सके। कारोबारी ने बैंक में जाकर बैलेंस का पता किया तब उन्हें अपने साथ हुई ठगी का पता चला। इस बाबत उन्होंने मोती नगर थाने में मय सबूतों के साथ केस दर्ज कराया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

Source: Shilpkar