ऊर्जावान रहा युवा शक्ति का महासंगम सोपान द्वितीय

0
318

मुंबई: मौजूदा युग की महाशक्ति कही जाने वाली युवा शक्ति को केंद्रित करते हुए मुंबई के कांदिवली में स्थित तेरापंथ भवन में सोपान द्वितीय का ऐतिहासिक आयोजन आचार्य श्री महाश्रमण जी की विदुषी शिष्या साध्वी अणिमा जी, मंगल प्रज्ञा जी एवं साध्वी वृन्द के सानिध्य में श्री जैन श्वेतांबर तेरापंथी सभा मुंबई द्वारा आयोजित और श्री तुलसी महाप्रज्ञ फाउंडेशन के सहयोग से संपन्न हुआ। मुंबई सभा अध्यक्ष सुनील कच्छारा और मंत्री नरेंद्र बांठिया के नेतृत्व में आयोजित और संयोजक अजित कोठारी, कंचन बम्ब की कार्यकुशलता साथ ही फाउंडेशन के अध्यक्ष अर्जुन चौधरी और मंत्री दलपत बाबेल के सहयोग ने इस कार्यक्रम को सफल बनाया। कार्यक्रम की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सात सौ लोगों की कैप्सीटी वाला आचार्य श्री तुलसी ऑडिटोरियम का कोना कोना युवा शक्ति से भरा हुआ था। वहीं दूसरी ओर आचार्य महाप्रज्ञ सभागृह अभिभावकों से खचाखच भरा हुआ था। इस कार्यक्रम का हिस्सा करीब 2 हजार लोग बने। अंतराष्ट्रीय वक्ता हिमिश मदान के मोटिवेशनल स्पीच ने युवाओं में मानो जोश का रक्त संचार कर दिया हो। हर युवा इस कार्यक्रम हिस्सा बन मानो इस बात का आभाष करने लगा हो की उन्हें उनके सपनों की उड़ान की चाभी मिल गई हो। हिमिश मदान ने अपने ही अंदाज में बच्चों के जिज्ञाशाओ का समाधान किया। यही नहीं बच्चो ने जमकर अपने सवाल हिमिश मदान के समुख रखें जिसके जवाब बड़े ही सहजता के साथ दिए। हिमिश मदान का मोटिवेशनल स्पीच गुदगुदाता हुआ लोगों के दिलो दिमाग तक पंहुचा। बच्चों को गुदगुदाते हुए उनके जीवन की समस्याओं का निवारण करने की कोशिश की। यही नहीं उनमें पॉजिटिविटी की ऊर्जा भरने की भी कोशिश की और उसमें कही ना कही सफल भी रहे। साथ ही कहा जीवन का मूल मंत्र पॉजिटिव सोच, जो जीवन में सफल बनाता है। साथ ही जीवन में लक्ष्य निर्धारित होना जरुरी होता है तभी हम अपने मकसद में कामयाब होगा।

साध्वी अणिमा श्री ने अपने मोटिवेशनल उद्बोधन में युवा शक्ति का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि विशिष्ठ पहेचान तभी बनती है जब लक्ष्य, संस्कार और पुरुषार्थ हमारे विशिष्ठ होते है। और उसमें पुल का काम आस पास का वातावरण करता है। जीवन में जरुरी है ज्ञानवान और संस्कारी मित्र की तभी जीवन असल में विशिष्ठ होगा। गलत संगत कभी नहीं करना चाहिए क्योंकि जीवन को गर्क में ले जाता है। युवा अवस्था जीवन निर्वाण की उम्र है। यही उम्र शिक्षा ग्रहण करने की उम्र है। अगर इसे नहीं समझा और इसका सद्पयोग नहीं किया तो जीवन भर भटकते रहोगे मंजिल नहीं मिलेगा। साध्वी डॉ. मंगलप्रज्ञा जी ने अपने मंगल उद्बोधन में युवा शक्ति का मार्गदर्शन करते हुए फ़रमाया कि सोपान का अर्थ स्टेप्स होता है यह हमें विचार करना है कि स्टेप्स हमें ऊपर की ओर रखना है या नीचे की ओर। जो सही स्टेप्स की ओर कदम बढ़ाता है और छोटे सपनों के पूर्ण होने से खुश नहीं होता क्योंकि उसका लक्ष्य टॉप पर पहुचने का होता है। जिनके अंदर दृढ़ संकल्प होगा तभी हम अपने मंजिल में सफ़ल होंगे। साथ ही घबराने की जरुरत नहीं होनी चाहिए जो निडर हो कर बढ़ता है मंजिल उसे ही मिलती है। सोपान एक विशाल मंच है जिसे मुंबई सभा की टीम ने तैयार किया है जो हमारे भविष्य का भविष्य निर्धारित करेगा। मुंबई की सभा टीम साधुवाद की पात्र है।

यह भी देखें :   हिमांशु संचेती बने सीबीडी बेलापुर तेयुप अध्यक्ष

गौरतलब है कि कार्यक्रम की शुरुआत साध्वी श्री निर्वाण श्री जी के मुखारबिंद से उच्चारित नवकार महामंत्र के उच्चारण के साथ हुआ। सोपान की ऊर्जावान टीम में सोपान की थीम सांग के साथ मंगलाचरण की सुन्दर गीतिका का संगान किया। मुंबई सभा अध्यक्ष सुनील कच्छारा ने सभी अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन करते हुए कहा कि युवा ही हमारा भविष्य निर्धारित करते है और इस प्रोग्राम को भी युवाओं की टीम ने ही संपादित और सफल बनाया है। श्री तुलसी महाप्रज्ञ फाउंडेशन अध्यक्ष अर्जुन चौधरी ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि युवाओं के लिए आयोजित इस कार्यक्रम की मेजबानी करने का सौभग्य मिला है। क्योंकि युवा ही हमारे धर्म संघ और देश का भविष्य है। किशोर समय जीवन का अमूल्य क्षण होता है इस समय में अगर किशोरों को सही दिशा दी जाय तो नदी के मार्ग को भी बदल सकते है। महिला मंडल मंत्री तरुणा बोहरा ने कहा कि पहली सीढ़ी की सफलता ही भविष्य की सफलता तय करता है। इस ऐतिहासिक सोपान कार्यक्रम के लिए मैं मुम्बई सभा की टीम के प्रति साधुवाद व्यक्त करती हूँ। अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी भलावत ने कहा कि इस कार्य के लिए मुंबई सभा की जीतनी सराहना की जाय उतना कम है। और यहाँ उपस्थित युवाओं को बस यही कहना चाहूंगा कि आने वाले पांच सालों में जीतना मेहनत आप करेंगे उतना ही सुनहरा भविष्य होगा। इसके साथ ही साथ संस्कारो की भी बहुत जरुरत होती है हमारे तय किये गए मंजिल तक पहुचाने के लिए। महासभा ट्रस्टी विनोद कच्छारा ने कहा कि युवा यहाँ से संकल्प करके जाय की जो मार्गदर्शन यहाँ से वक्ताओं से मिलेगा उसे अपने जीवन में उतारे ताकि माता पिता को आभाष हो की उनके बच्चों को कुछ मिला। जिसकी वजह से उनके बच्चों को नई राह दिखी अपने भविष्य को निखारने के लिए।

यह भी देखें :   दुनिया की सबसे मोटी महिला इमान अहमद का वजन 242 किलो हुआ कम

मुंबई सभा मंत्री नरेंद्र बांठिया ने कहा कि युवा अवस्था जीवन का वो क्षण है जिसे व्यक्ति अंतिम सांस तक नहीं भूलता है। यही वो उम्र है जहाँ से भविष्य तय होता है। सोपान ये वो प्लेटफार्म है जहाँ अपने भविष्य को निर्धारित किया जा सकता है। क्योंकि सोपान का अर्थ पहला कदम सफल जीवन की ओर। ऐसे में आप को तय करना है कि आप के कदम किस ओर रखने है। यही नहीं कदम रखते हुए इस बात की सावधानी बरतें साथ कौन है। क्योंकि अच्छा मित्र जीवन को सफल बनाता है। गलत संगत उसे गर्क में लेकर जाता है। आप पर निर्भर करता है कि आप को क्या चुनना है। आईएसएस ऑफिसर सारिका जैन ने कहा कि युवाओं को धर्म परिवार से जोड़ने का सबसे बड़ा मंच सोपान है। संस्कार ही मनुष्य को उचाईयो के शिखर पर पहुचाता है। व्यक्ति का चेहरा नहीं उसका आत्मविश्वाश ही उसे सफल बनाता है। वही इस बीच सोपान टीम द्वारा सुंदर प्रस्तुति दी गई।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में कोषाध्यक्ष ख्यालीलाल मादरेचा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष निर्मल कुमठ, रमेश बडाला, सभा सह मंत्री पवन ओस्तवाल, तुलसी महाप्रज्ञ फाउंडेशन मंत्री दलपत बाबेल, कोषाध्यक्ष भेरूलाल चपलोत, सोपान संयोजिका कंचन बम्ब, विनोद बांठिया, ललित बांठिया, श्रेया बाफना, रिया चोरड़िया, सेजल सिंघवी, शिखा बाफना, मानसी वागरेचा, ध्रुवी मादरेचा, दीपांशी धोका, मयंक धाकड़, यश चोरड़िया, विनीत सिंघवी, कपिल चंडालिया, चिराग ओस्तवाल, हर्ष कोठारी, जैनम कच्छारा आदि का विशेष श्रम रहा।

इस अवसर पर विशेष उपस्थिति मुंबई सभा से विजय संचेती, अभातेयुप संगठन मंत्री योगेश चौधरी, ताराचंद बांठिया, भंवरलाल कर्णावट, ख्यालीलाल तातेड़, माणक धींग, मुंबई टीपीएफ अध्यक्ष मनीष कोठारी, जीवन विज्ञान अकादमी मुंबई अध्यक्ष सुरेंद्र कोठारी, मंत्री प्रीतम हिरण, पारस कोठारी, विनोद बाफना, महेश बाफना, विनोद सिंघवी, संदीप कोठारी, राजेंद्र मुथा, बाबूलाल बाफना, भूपेश कोठारी, मनोज ढालावत, मालाड तेयुप अध्यक्ष महेश मेहता, बोरीवली अध्यक्ष अशोक मादरेचा और मंत्री गौरव भंसाली, महिला मंडल मंत्री तरुणा बोहरा, दिनेश सिंघवी, तेयुप कांदिवली अध्यक्ष प्रमोद डांगी, किशोर धाकड़, लोकेश डांगी, राकेश बडाला, सुरेश राठौड़, आदि की उपस्थिति रही। मंच का कुशल सञ्चालन करते हुए सोपान के संयोजक के तौर पर अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले मुंबई सभा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजित कोठारी ने सभी का दिल अपने शब्दों के बाणों से जीत लिया। आभार ज्ञापन कपिल चंडालिया और तुलसी महाप्रज्ञ फाउंडेशन के मंत्री दलपत बाबेल ने किया।

यह भी देखें :   डॉ प्रकाश आमटे ठाणे में

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...