पिटाई के बाद बच्चे की मौत

0
55

नई दिल्ली:रोहिणी इलाके में पांचवीं क्लास के स्टूडेंट की संदिग्ध हालत में मौत का मामला सामने आया है। लड़के के परिवारवालों का आरोप है कि स्कूल में उनके बेटे को क्लास के ही कुछ लड़कों ने बुरी तरह पीटा। अंदरूनी सूजन के बाद बच्चे की हालत बिगड़ी और अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। 10 साल के विशाल के परिवारवाले गहरे सदमे में हैं। 19 जुलाई को विशाल का बर्थडे है, जिसे सेलिब्रेट करने के लिए भाई-बहन प्लान कर रहे थे। बेगमपुर पुलिस परिजनों के आरोपों को देखते हुए शव को कब्जे में लेकर डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमॉर्टम करा रही है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का पता चल पाएगा। इसके बाद पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।
पुलिस अफसरों के मुताबिक, विशाल परिवार के साथ रोहिणी सेक्टर 21 में रहते थे। एमसीडी स्कूल में पांचवीं क्लास में पढ़ रहे थे। विशाल के पिता राम बाबू प्राइवेट काम करते हैं। मूल रूप से मध्य प्रदेश के छतरपुर का परिवार है। दिल्ली में करीब 7 साल से रह रहे हैं। रामबाबू के परिवार में पत्नी संगीता, 12 वर्षीय बेटी आरती, 10 वर्षीय विशाल और 7 साल का रोहन है। आरती 7वीं क्लास में पढ़ती है। विशाल और रोहन एमसीडी स्कूल में पढ़ रहे थे। रामबाबू ने बताया कि, शुक्रवार शाम स्कूल से लौटने के बाद उनका बेटा सो गया था।
शनिवार सुबह स्कूल जाने के लिए जब विशाल और रोहन को जगाया तो विशाल रोने लगा। पूछने पर विशाल की आवाज नहीं निकल रही थी। उन्होंने गले की ओर इशारा करके चोट की बात बताई। उन्होंने पूछा कि क्या स्कूल के अंदर झगड़ा हुआ है। तो उसने गर्दन हिलाते हुए हां में जवाब दिया। इसके बाद परिजन उन्हें लेकर एक प्राइवेट अस्पताल में गए, जहां से उन्हें रोहिणी स्थित आंबेडकर अस्पताल भेज दिया गया। विशाल की हालत गंभीर थी। शनिवार देर शाम तक उनकी हालत बिगड़ती चली गई। शनिवार रात को सफदरजंग अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। करीब साढ़े दस बजे ऐम्बुलेंस में ले जाते वक्त रास्ते में विशाल ने दम तोड़ दिया।
इसके बाद परिजन घर लौट आए और घटना की सूचना रविवार की सुबह पुलिस को दी। बेगमपुर थाना पुलिस ने परिजनों का बयान दर्ज किया और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। डीसीपी ऋषिपाल के मुताबिक, एमएलसी में बच्चे के शरीर पर चोट के कोई बाहरी निशान नहीं मिले हैं और न ही परिजनों ने पुलिस कंट्रोल रूम को कोई सूचना दी थी। लेकिन अब बच्चे के पिता के बयान पर शव के पोस्टमॉर्टम के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया जाएगा। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा और इसके आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी देखें :   ठकठक गैंग ने डॉक्टर को बनाया 'अप्रैल फूल', 2 लाख का चूना

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...