नेताजी पर फ्रेंच रिपोर्ट को लेकर उनके पोते चंद्र कुमार बोस ने केंद्र पर साधा निशाना

0
61

कोलकाता:नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत दुनियाभर के लिए हमेशा से रहस्य का विषय रही है। अब तक इस नतीजे पर पहुंचा गया था कि उनकी मौत 18 अगस्‍त 1945 को एक प्‍लेन क्रैश में हुई थी। मगर हाल ही में एक फ्रेंच रिपोर्ट में यह दावा कर सनसनी फैला दी गई कि नेताजी की मौत किसी प्‍लेन क्रैश में नहीं हुई थी। पेरिस के इतिहासकार जे बी पी मोरे ने यह दावा किया है।

इसको लेकर नेताजी के पोते चंद्र कुमार बोस ने केंद्र पर निशाना साधा है। उन्‍होंने केंद्र सरकार से पूछा है कि भारत के इस सबसे बड़े रहस्‍य को सुलझाने के लिए वह एक स्‍पेशल इंवेस्टिगेटिव टीम (एसआइटी) का गठन करने से क्‍यों बच रही है। चंद्र के बोस ने कहा, फ्रेंच रिपोर्ट से साफ संकेत मिलता है और दूसरे भी कई साक्ष्‍य हैं जो यह स्‍पष्‍ट इशारा करते हैं कि उनकी मौत प्‍लेन क्रैश में नहीं हुई थी। तो वो ऐसी क्‍या चीज है, जो मौजूदा केंद्र सरकार को एक एसआइटी का गठन करने से रोक रही है? हम जनवरी 2016 से इसकी मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें कि नेताजी की मौत प्‍लेन क्रैश में नहीं हुई थी, इस बात का दावा जे बी पी मोरे ने 11 दिसंबर, 1947 की एक फ्रेंच सीक्रेट सर्विस रिपोर्ट के आधार पर किया है। इसके मुताबिक, नेताजी 1947 तक जिंदा थे और उन्हें 1947 के अंत में देखा गया था।

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

यह भी देखें :   शत्रु संपत्ति कानून संशोधन बिल 2017 को संसद की मंजूरी
loading...