संसद के मानसून सत्र में सरकार पर हमलावर होगा विपक्ष

0
57

नई दिल्ली: संसद के मानसून सत्र में विपक्ष ने सरकार को घेरने की तैयारियों को सोमवार को अंतिम रूप दे दिया। इस दौरान गोरक्षकों की हुड़दंग, नाराज किसानों का प्रदर्शन, कश्मीर में तनाव, विपक्ष के कुछ नेताओं के खिलाफ भ्रष्टाचार को लेकर जांच एजेंसियों की कार्रवाई और सिक्किम से लगी चीन की सीमा पर तनाव जैसे मुद्दों पर सरकार को सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश की जायेगी।

संसद सत्र शुरु होने की पूर्व संध्या पर राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सिक्किम में चीनी सीमा पर तनाव बढ़ गया है। इसके लिए चीन जिम्मेदार है। देश की सुरक्षा का मामला होने की वजह से इसे संसद में जरूर उठाया जाएगा। कश्मीर के हालात पर आजाद ने कहा कि सरकार ने वहां बातचीत के सारे रास्ते बंद कर दिये हैं। यहां तक कि कोई एक झरोखा भी नहीं खुला है। कश्मीर में राजनीतिक घुटन का माहौल है।

कांग्रेस ने कहा कि संसद में भीड़ के हमले में निर्दोषों की हत्या, कृषि संकट व किसान आत्महत्या जैसे मसले को विपक्ष जोरशोर से उठायेगा। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस सदन की कार्यवाही में बाधा डालने की पक्षधर नहीं है। लेकिन इसके लिए सरकार को आगे बढ़कर इन मुद्दों पर चर्चा कराने की अनुमति देनी चाहिए। विपक्षी दलों की बैठक में कांग्रेस व वामदलों समेत अन्य विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने सरकार पर निशाना साधा।

विपक्ष की ओर से आर्थिक मोर्चे पर भी सरकार की घेरेबंदी की जा सकती है। वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) से होने वाली परेशानी, रोजगार के घटते मौके व बढ़ती बेरोजगारी की समस्या पर सरकार को कठघरे में खड़ा किये जाने की संभावना है। जद यू अध्यक्ष शरद यादव ने केंद्र की मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वह रोजगार देने के अपने वायदे को पूरा करने में विफल रही है। विपक्ष इस मुद्दे को सदन में उठायेगी ही।

यह भी देखें :   1,900 गैरसरकारी संगठनों को कानूनी कार्रवाई की चेतावनी

सोमवार को संसद में लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही दोनों सदनों के वर्तमान सदस्यों के निधन होने की वजह से श्रद्धांजलि देने के बाद दिनभर के लिए स्थगित हो जाएगी। सर्वदलीय बैठक में सरकार ने विपक्ष से दोनों सदनों में पेश होने वाले विधेयकों को पारित कराने के लिए सहयोग की अपील की। कई विधायी कार्यो के साथ दो दर्जन से अधिक विधेयक पारित कराने के लिए पेश किये जाएंगे। राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनावों कई मुद्दों पर विपक्ष के 18 दलों के बीच परस्पर सहमति बनी हुई है।

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...