बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद होंगे NDA के राष्ट्रपति उम्मीदवार

0
52

नई दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अाज प्रेस कांफ्रेस कर राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा कर दी। भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद अमित शाह ने बताया कि बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया गया है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि हमने सभी पार्टियों से बात करने के बाद कोविंद जी के नाम पर निर्णय लिया गया है। पीएम मोदी ने इस संबंध में सोनिया गांधी अौर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से बात की है। सोनिया ने कहा कि हम बातचीत करके अागे के फैसले के बारे में बताएंगे।

रामनाथ कोविंद कानपुर देहात के रहने वाले हैं। वे भाजपा का दलित चेहरा हैं। उपराष्ट्रपति पद के लिए किसी नाम पर अभी निर्णय नहीं हुआ है। रामनाथ कोविंद पेशे से वकील हैं और वह दो बार राज्यसभा के सांसद रह चुके हैं। अमित शाह ने बताया कि रामनाथ कोविंद जी पिछड़ों और गरीबों के लिए हमेशा संघर्ष करते रहे हैं।

संसदीय बोर्ड की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू अादि भाजपा नेता मौजूद थे। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने अपने सभी सांसदों व विधायकों को दिल्ली बुलाया है। बताया जा रहा है भाजपा ने अपने सभी सांसदों और विधायकों को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नामांकन पर हस्ताक्षर करने के लिए आमंत्रण भेजा है।

एनडीए ने की नामांकन की तैयारी तेज

इन सियासी चर्चाओं के बीच एनडीए ने अपने राष्ट्रपति उम्मीदवार के 23 जून को संभावित नामांकन की तैयारियां भी तेज कर दी है। इसके लिए केंद्रीय मंत्रियों से लेकर एनडीए के सहयोगी दलों के नेताओं से नामांकन सेट पर बतौर प्रस्तावक और अनुमोदक हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं। राष्ट्रपति चुनाव की उम्मीदवारी तय करने के लिए सरकार ने चर्चाओं की गति तेज कर दी है।

यह भी देखें :   अंतरराष्ट्रीय बौद्ध समारोह में पहुंचे पीएम मोदी

पीएम मोदी के विदेश दौरे से पहले दाखिल होगा नामांकन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 24 जून को अमेरिका दौरे पर रवाना होना है और इसलिए एनडीए की पीएम के विदेश दौरे से पहले राष्ट्रपति उम्मीदवार का नामांकन दाखिल कराने की पूरी तैयारी है। इसके लिए भाजपा और सहयोगी दलों की ओर से नामांकन पत्र का सेट भी तैयार किया जा रहा है। बताया जाता है कि एनडीए राष्ट्रपति उम्मीदवार के नामांकन के एक सेट पर प्रधानमंत्री समेत तमाम केंद्रीय मंत्रियों और सहयोगी दलों के नेता प्रस्तावक और अनुमोदक के रुप में हस्ताक्षर करेंगे। गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद का नामांकन दाखिल करने के लिए 50 सांसदों या विधायकों के प्रस्तावक और इतने ही अनुमोदक के रुप में हस्ताक्षर की जरूरत होती है।

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...