सेना के प्रति देश के विश्वास में कोई बदलाव नहीं : राष्ट्रपति

0
51

पुणे: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि तेजी से बदलते माहौल में सेना के प्रति देश के विश्वास में कोई बदलाव नहीं हुआ है। यह विश्वास जस का तस है।
राष्ट्रपति शनिवार को कॉलेज ऑफ मिलिट्री इंजीनियरिंग (सीएमई) में दीक्षा समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सेना के युवा इंजीनियरों से नई तकनीक के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने और सैन्य बलों के लिए तकनीक को निखारने को कहा। उन्होंने कॉलेज के छात्रों से कहा कि उन्हें अच्छे इंजीनियर और अच्छे सैनिक की दोहरी भूमिका निभानी पड़ती है। भारतीय सेना के इंजीनियरों ने महत्वपूर्ण राष्ट्रीय परियोजनाओं में अपनी योग्यता साबित की है। चाहे वह सियाचिन में पाइपलाइन बिछाने का काम हो, नौसैनिक अड्डे का निर्माण, पूर्वोत्तर में हवाई पट्टियों का निर्माण हो या हिमालय की पहाडि़यां काटकर सड़क निर्माण का काम हो।
राष्ट्रपति ने छात्रों से कहा कि आप सभी से अपने पूववर्ती के कदमों को अनुसरण करने की उम्मीद है। सेना के इस प्रमुख तकनीकी संस्थान से एमटेक और बीटेक के 71 छात्र परीक्षा में पास हुए। इस कॉलेज की स्थापना 1943 में की गई थी।

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

यह भी देखें :   सुप्रीम कोर्ट ने रेप विक्टिम को नहीं दी प्रेगनेंसी टर्मिनेट करने की इजाजत
loading...