उपराष्ट्रपति पद के लिए वेंकैया नायडू एनडीए के उम्मीदवार, विपक्ष की तरफ से गोपालकृष्ण गांधी

0
79

नई दिल्लीः बीजेपी ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है। बीजेपी संसदीय बोर्ड की यहां हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर संसदीय दल के बैठक की जानकारी साझा की। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी ने सर्वसम्मति से नायडू को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है। एनडीए के सभी दलों ने नायडू के नाम पर सहमति जताई है।’
शाह ने कहा, ‘एनडीए के सभी दलों ने इस निर्णय का स्वागत किया है। नायडू मंगलवार सुबह 11 बजे नामांकन करेंगे।’ उपराष्ट्रपति पद के लिए नायडू का मुकाबला विपक्ष के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी से होगा। शाह ने कहा, ‘नायडू बीजेपी के वरिष्ठतम नेताओं में से एक हैं। वह बचपन से ही पार्टी से जुड़े रहे हैं। नायडू दो बार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे हैं। उनका 25 साल से लंबा संसदीय कार्य का अनुभव है। नायडू 4 बार राज्यसभा के सदस्य रहे हैं। किसान परिवार से आने वाले नायडू बीजेपी के सभी संगठनात्मक पदों पर काम करते हुए देश के केंद्रीय मंत्री तक बने।’
आंकड़ों के हिसाब से एनडीए के उम्मीदवार को जीतने में कोई दिक्कत पेश नहीं आने वाली है। अगर सबकुछ सही रहा तो नायडू देश के अगले उपराष्ट्रपति हो सकते हैं। मौजूदा उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का कार्यकाल अगले महीने समाप्त हो रहा है। अंसारी लगातार दो बार देश के उपराष्ट्रपति बने। नायडू का मुकाबला 18 विपक्षी पार्टियों के उपराष्ट्रपति पद के संयुक्त उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी से मुकाबला होगा।
उपराष्ट्रपति पद के लिए नायडू बीजेपी के उपयुक्त उम्मीदवार हैं। उपराष्ट्रति के पास ही राज्यसभा के संचालन की भी जिम्मेदारी होती है। ऐसे में बीजेपी की रणनीति के लिहाज से उनका नाम मुफीद बैठ रहा था। राष्ट्रपति पद के लिए उत्तर प्रदेश के रहने वाले रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के बाद बीजेपी उपराष्ट्रपति पद के लिए दक्षिण से किसी उम्मीदवार की घोषणा करना चाहती थी। नायडू पार्टी के मानकों पर खरे भी उतर रहे थे। वह आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं। बीजेपी इस दांव से दक्षिण में अपना आधार मजबूत करना चाहती है। कर्नाटक ही एकमात्र ऐसा राज्य है जहां बीजेपी मजबूत स्थिति में है।
उपराष्ट्रपति पद के लिए नायडू और महाराष्ट्र के राज्यपाल विद्यासागर राव का नामों के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन नायडू का नाम इस पद के लिए घोषित किया गया। नायडू के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार बनने के बाद अब केंद्रीय कैबिनेट का जल्द ही विस्तार भी हो सकता है क्योंकि नायडू के पास दो मंत्रालयों की जिम्मेदारी है।
एम वेंकैया नायडू जन्म का 1 जुलाई 1949 को आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में हुआ। वह 2002 से 2004 तक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। वर्तमान में नायडू केंद्र में सूचना एवं प्रसारण मंत्री हैं। नायडू पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रह चुके हैं।

यह भी देखें :   पीएम ने की प्रणव मुखर्जी के विदाई समारोह की मेजबानी

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...