ऑर्गेनिक खेती कर कैंसर को दी मात

0
51

होशियारपुरःएजेंसी। हमारे जीवन में तमाम ऐसे मोड़ आते हैं जो बड़े सबक होते हैं। यह बात और है कि ज्यादातरलोग उन्हें अनदेखा अनसुना कर देते हैं। जो उससे सीखते हैं और अपने हौसले और जज्बे से मानवता को बचाने के लिए आगे बढ़ते हैं, वे मनजीत कौर की श्रेणी में आते हैं। पंजाब के होशियारपुर के नीलानलोया गांव की इस महिला की सफलगाथा ऐसे ही एक दुखद मोड़ के बाद शुरू हुई। आज उनके नाम की गूंज परदेस तक है। जो महिलाएं कभी चूल्हा-चौके तक सीमित थीं, इनसे जुड़कर बीस हजार रुपये महीना कमा रही हैं। दसवीं पास मनजीत कौर ग्यारह साल पहले गरीबी से जूझ रही थीं।

बेटी को कैंसर होने की वजह से परेशानी और ज्यादा थी। डॉक्टर के पास गईं तो पता चला कि फसलों में रासायनिक खादों व कीटनाशकों के इस्तेमाल के कारण कैंसर की शिकायत बढ़ रही है। यहीं से उन्होंने ऑर्गेनिक खेती करके कैंसर से लड़ने की ठानी। दिल की इच्छा कुछ महिलाओं से साझा की तो इस जंग में उनका भी साथ मिला। मदर टेरेसा ग्रुप बनाया। ठेके पर जमीन लेकर ऑर्गेनिक खेती शुरू कर दी। पहले एक एकड़ में की। अब पांच एकड़ में खेती हो रही है। इलाके की लगभग 50 महिलाएं इस ग्रुप से जुड़ चुकी हैं। समूह में कोई पुरुष शामिल नहीं है। सभी काम महिलाएं खुद करती हैं। मनजीत कौर बताती हैं कि जब उन्हें पता चला कि रासायनिक खादों व कीटनाशकों से कैंसर की बीमारी पैदा हो रही है तो मन बहुत दुखी होता था।

लिहाजा उन्होंने एक तीर से दो निशाने साधने का निर्णय लिया। एक महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का, दूसरा ऑर्गेनिक खेती से कैंसर को पटखनी देने का। मदर टेरेसा ग्रुप की महिलाओं द्वारा तैयार किया गया ऑर्गेनिक गुड़ व शक्कर देश ही नहीं, विदेश में भी मिठास घोल रहा है। वर्तमान में करीब तीस क्विंटल गुड़ व शक्कर कनाडा, ब्रिटेन आदि देशों में जाता है। इस क्षेत्र के लोग विदेश में काफी संख्या में हैं। वे जब भी आते हैं तो खुद और अपने रिश्तेदारों के लिए गुड़ व शक्कर लेकर जाते हैं। ग्रुप की ओर से तैयार किये जा रहे उड़द, साग, सब्जियों, जैविक पापड़ व बड़ियों की भी काफी मांग ह

यह भी देखें :   सरकार गरीबों पर मेहरबान, सस्ते राशन के नहीं बढ़ेंगे दाम

तीन वर्ष तक कठिन परिश्रम
मदर टेरेसा ग्रुप की दस महिलाओं ने एक एकड़ जमीन को ऑर्गेनिक खेती के लायक बनाने लिए तीन वर्ष तक कठिन परिश्रम किया। इस अवधि के दौरान रासायनिक खाद और कीटनाशक से उसे मुक्त रखा और गोबर का इस्तेमाल ही किया जाता रहा। फिर ऑर्गेनिक गन्ना, गेहूं व सब्जियां उगानी शुरू की।

-ठेके पर जमीन लेकर शुरू की ऑर्गेनिक खेती
-इस जंग में अन्य महिलाओं का भी मिला साथ
-मदर टेरेसा ग्रुप बना गरीबी और कैंसर दे रहीं जवाब
-ग्रुप के ऑर्गेनिक उत्पादों की विदेश में भी धूम

ग्रुप की महिलाओं को अलगअलग उत्पादों के लिए सामूहिक तौर पर जानकारी दी जाती है। तैयार उत्पादों को सरकार द्वारा खोले गए किसान हट केंद्रों पर भी बेचा जाता है। मकसद ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को सबल बनाना है और ऑर्गेनिक उत्पाद से कैंसर को भगाना है। – मनजीत कौर, अध्यक्ष, मदर टेरेसा ग्रुप।

Source: shilpkar

------------------------------------------------------------------------------------------------------

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें सुरभि न्यूज़ एप्प

loading...